आज का सुविचार

धार्मिक व्यक्ति दुःख को सुख में बदलना जानता है.

फोटो गैलरी

Second slide

अपेक्षित सहयोग

किसी भी समाज/संस्थान के विकास एवं प्रगति की मुख्य आधार शिला दानदाताओं के सहयोग पर निर्भर करती है। समाजोत्थान एवं जनकल्याणकारी कार्यों हेतु सदयी सौजन्यदाता निस्पृह भाव से अपने अर्थ का विसर्जन करते हुए आत्मीय संतुष्टि की अनुभूति करते हैं। शास्त्रों में भी मानुषी समृद्धि एवं मोक्ष सम्पदा का उत्ष्ट मार्ग दान को बताया गया है। सभी भामाशाहों की प्रति दय से आभार ज्ञापित करते हुए प्रतिष्ठान द्वारा संचालित विविध योजनाओं एवं प्रवृाियों में आपका सहयोग व सौजन्य अपेक्षित है।
- प्रतिष्ठान द्वारा विकास हेतु किये जाने वाले नवनिर्माण एवं सेवा कार्यो में उदारमना सौजन्यदाता के नाम आशीर्वाद भवन में स्थाई सम्मान पर निम्न प्रकार से उल्लेख किया जाता है।
परम विशिष्ट सहयोगी-11 लाख से अधिक
अति विशिष्ट सहयोग - 5 लाख से अधिक-11 लाख तक
विशिष्ट सहयोगी - 1 लाख से- 5 लाख तक
- आज के सहयोगी योजना मे तिथि विशेष के लिए सहयोग राशि प्रदान करने वाले अनुदानदाताओं का उस तिथि विशेष के दिन पर नाम उल्लेखित किया जाता है।

- इस योजना के अन्तर्गत 11000 रूपये प्रदान करने वाले अनुदानदाताओं का तिथि विशेष पर 15 वर्ष तक फोटोमय नामोल्लेख किया जाता है।


- संरक्षक, आजीवन व वार्षिक/सत्रीय सदस्यता की योजनाएं भी संचालित है। संरक्षक सदस्यता 51000/- रूपये, आजीवन सदस्यता 2100 रूपये वार्षिक/सत्रीय सदस्यता 500 रूपये, शुल्क देकर सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं।
- साहित्य तथा प्रचार-प्रसार के प्रकाशन एवं वितरण में सहयोग अपेक्षित है।

-आचार्य तुलसी कैन्सर सेंटर में निर्माण कार्यों व संसाधनों तथा संचालन में भी सहयोग अपेक्षित है। आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान को दिये गये अनुदान पर 80जी की छूट प्राप्त है।

विजिटर